Natural Eat Mania

Health is Wealth

Chiku Khane Ke Fayde

Chiku Khane Ke Fayde

Chiku Khane Ke Fayde

chiku ke chilke ke fayde, Benefits of Noseberry, Benefits of Sapota, Chickoo Health Benefits, chiku khane ke nuksan, Chiku Khane ke Nuksan, chiku khane ke fayde in pregnancy, chiku shake ke fayde, cheeku ki taseer thandi ya garam, chikoo tree information in hindi,

चीकू एक ऐसा फल है जो हर मौसम में आसानी से मिल जाता है और बहुत स्वादिष्ट भी होता है। भोजन के बाद यदि चीकू का सेवन किया जाए तो यह निश्चित रूप से लाभ प्रदान करता है। चीकू के फल में 71 प्रतिशत पानी, 1.5 प्रतिशत प्रोटीन, 1.5 प्रतिशत चर्बी और साढ़े पच्चीस प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट होता है। इसमे विटामिन ए तथा विटामिन सी की अच्छी मात्रा होती है। चीकू के फल में 14 प्रतिशत शर्करा भी होती है। इसमें फास्फोरस तथा लौह भी काफी मात्रा में होता है और क्षार का भी कुछ अंश होता है।

चीकू एक ऐसा फल है जो हर मौसम में आसानी से मिल जाता है और बहुत स्वादिष्ट भी होता है। भोजन के बाद यदि चीकू का सेवन किया जाए तो यह निश्चित रूप से लाभ प्रदान करता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं चीकू खाने के कुछ ऐसे ही फायदों के बारे में

अन्य भाषाओं में चीकू के नाम (Name of Chiku in Different Languages) :

चीकू का वानास्पतिक नाम Manilkara zapota (Linn.) P. Van Royen (मैनिलकारा जपोटा)Syn-Achras sapota Linn., Achras zapota Linn. है। चीकू Sapotaceae (सैपोटेसी) कुल का है। चीकू को अंग्रेज़ी में Sapodilla (सैपोडिला)कहते हैं। चीकू को अन्य प्रांतो में भिन्न-भिन्न नामों से जाना जाता है,जो इस प्रकार है-

Chikoo in-

  • Sanskrit-कन्दुक-फल;
  • Hindi-चीकू;
  • Urdu-चीकू (Chikoo);
  • Oriya –सोपातो (Sopato);
  • Konkani-चीकू (Chicu), सापोटा (Saapotaa);
  • Kannada-सपोटा (Sapota);
  • Gujrati-चीकू (Cheeku);
  • Tamil-सापोता (Sapota);
  • Telugu-सापोतसीमा (Sapotasima), सीमइप्पा (Simaippa);
  • Bengali-सापोता (Sapota);
  • Nepali-गुदालू (Gudalu);
  • Marathi-चिकाली (Chikali), चिक्कू (Chikku);
  • Malayalam-शिमाई-ऐलुप्पई (Shimai-elluppai)
  • English-नोजबेरी (Noseberry), बीफ एपैल (Beef apple), अमेरिकन बुली (American bully), बुली ट्री (Bully tree)।

चीकू के फायदे (Benefits and Uses of Chiku in Hindi)

अब तक तो चीकू का परिचय (Chiku Benefits in Hindi) तो मिल ही गया है लेकिन चीकू किन-किन रोगों के लिए लाभकारी है, चलिये अब इनके बारे में विस्तार से जानते हैं-

  1. आंखों के लिए अच्छा

चीकू में विटामिन ए अच्छी मात्रा में पाया जाता है जिसकी वजह से बुढ़ापे में होने वाली आखों की समस्यों को भी दूर किया जा सकता है।

  1. सोर्स ऑफ़ एनर्जी

चीकू में ग्लूकोज अच्छी मात्रा में पाया जाता है, जो शरीर को तुरंत ऊर्जा प्रदान करता है। जो लोग रोज़ व्यायाम और कसरत करते हैं, उन्हें ऊर्जा की बहुत आवश्यकता होती है इसलिए उन लोगों को चीकू रोज़ खाना चाहिए।

  1. एन्टी-इंफ्लेमेटरी एजेंट

चीकू में टैनिन की अच्छी मात्रा पाई जाती है जिसकी वजह से यह एक अच्छा एन्टी-इंफ्लेमेटरी एजेंट है। दूसरे शब्दों में कहा जाये तो यह कब्ज, दस्त, और एनिमिया जैसी बिमारिओं से बचाता है, साथ ही आंतों की शक्ति बढ़ता है, हृदय और गुर्दे के रोगों को भी होने से रोकता है।

  1. कैंसर के ख़तरे से बचाता है

चीकू में विटामिन ए और बी अच्छी मात्रा पाया जाता है, और इसमें एंटीऑक्सिडेंट, फाइबर और अन्य पोषक तत्व भी पाए जाते हैं जो जो कैंसर से बचाता है। विटामिन ए फेफड़ों और मुँह के कैंसर से बचाता है।

  1. हड्डियों के लिए गुणकारी

चीकू में कैल्शियम फास्फोरस और आयरन की अतिरिक्त मात्रा पायी जाती है, जो हड्डियों के लिए आवश्यक होती है। कैल्शियम, आयरन और फास्फोरस की अच्छी मात्रा होने की वजह से हड्डियों को बढ़ने और मजबूती देने में चीकू बहुत लाभ दायक होता है।

  1. कब्ज से राहत

चीकू में फाइबर (5.6/100g) मात्रा में पाया जाता है, इस लिए इसमें अच्छी मात्र में लैक्सटिव(रेचक) पाया जाता है जो कब्ज से राहत दिलाता है और अन्य संक्रमण से लड़ने की शक्ति देता है।

  1. गर्भावस्था के दौरान लाभदायक

कार्बोहाइड्रेट और आवश्यक पोषक तत्वों की अच्छी मात्रा पाए जाने की वजह से यह गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए चीकू बहुत फायदेमंद होता है। चीकू गर्भावस्था के दौरान होने वाली अन्य कमजोरी जैसे मतली और चक्कर जैसी दिक्कतों को भी कम करता है।

  1. हेमोसटाटिक प्रॉपर्टीज

चीकू में हेमोसटाटिक प्रॉपर्टीज के गुण भी पाए जाते हैं मतलब यह शरीर में होने वाले रक्त के नुकसान से भी बचाता है। इस प्रकार, चीकू बवासीर और ज़ख़्म को भी जल्दी ठीक कर देता है, और इसके बीज को पीस कर उसे कीड़े के काटने की जगह पर भी लगाया जा सकता है।

  1. एंटी वायरल और एंटी बैक्टीरियल गुण

पॉलीफेनोलिक एंटीऑक्सीडेंट के होने के कारण चीकू में कई एंटी-वायरल, एंटी-परसिटिक और एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। एंटीओक्सिडेंट होने के कारण यह शरीर में बैक्टीरिया को आने से रोकता है, विटामिन सी हानिकारक मुक्त कण को नष्ट करता है, और पोटेशियम, आयरन, फोलेट, और नियासिन पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है।

  1. दस्‍त से राहत

चीकू में एंटी- डाइरियल के गुण भी पाए जाते हैं। पानी में चीकू को उबाल कर बनाये गए काढ़े को पीने से दस्त से आराम मिलती है। यह बवासीर और पेचिश से भी राहत पहुंचता है।

  1. मानसिक स्वास्थ्य

चीकू दिमाग को शांत रखने में बहुत मदद करता है। यह दिमाग की तंत्रिकाओं को शांत और तनाव को कम करने में मदद करता है। इस प्रकार, यह अनिद्रा, चिंता और अवसाद से पीड़ित व्यक्तियों के लिए बहुत लाभ दायक होता है।

  1. सर्दी और खांसी

चीकू में कुछ खास तत्व पाए जाते हैं जो श्वसन तंत्र से कफ और बलगम निकाल कर और पुरानी खांसी में राहत देता है। इस प्रकार यह सर्दी और खांसी से बचाता है।

  1. गुर्दे की पथरी

चीकू के फल के बीज को पीस का खाने से गुर्दे की पथरी को द्वारा पेशाब निकाल देता है। यह साथ ही यह गुर्दे के रोगों के से भी बचाता है।

  1. वजन घटाने में सहायक

चीकू वजन घटाने में बहुत लाभ दायक होता है। यह गैस्ट्रिक एंजाइमों को खत्म करके पाचन तंत्र को मजबूत कर मोटापे से बचाता है।

  1. विषहरण

चीकू एक मूत्रवर्धक के रूप में भी कार्य करता है, यह शरीर से पेशाब द्वारा गंदगी को निकलने में मदद करता है।

  1. टूथ कैविटी

चीकू में लेटेक्स अच्छी मात्रा में पाया जाता है इसलिए यह दाँत की कैविटी को भरने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

  1. चमकदार त्वचा

चीकू आपकी त्वचा की चमक बनाये रखने में भी काफी मदद करता है। इसमें विटामिन ई पाया जाता है जो आपकी त्वचा को नमी देते है और जिससे आपकी त्वचा स्वस्थ और सुंदर हो जाती है। इसलिए, चीकू आपकी त्वचा के लिए लाभ दायक है।

  1. बालों के लिए गुणकारी

चीकू के बीज से निकाला गया तेल बालों को मॉइस्चराइज़ और सॉफ्ट करके बालों को नयी चमक देता है। यह घुंघराले बालों के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। और बहुत जल्दी अब्सोर्ब हो जाता है।

  1. बालों को झड़ने से रोकता है

चीकू के बीज का तेल सिर की त्वचा को पोषण और स्वस्थ बनाता है, और बालों को बढ़ने में भी मदद करता है। यह सर में होने वाली सूजन की वजह से बाल गिरने के उपचार में भी कारगर है।

  1. डैन्ड्रफ भगाए

चीकू के बीज का पेस्ट बनाले और उसे अरंडी के तेल के साथ मिलाले, फिर इस मिश्रण को सिर की त्वचा पर लगाये और अगले दिन धोले। इससे आपके बाल चमकदार और डैन्ड्रफ फ्री हो जाएंगे।

  1. झुर्रियों को कम करे

चीकू में एंटीऑक्सीडेंट अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को रोकने में सहायक है क्योंकि यह फ्री रेडिकल्स को समाप्त कर देता है, और यह झुर्रियों को भी कम कर देता है।

  1. स्किन ऑइन्ट्मन्ट

चीकू के बीज का तेल त्वचा के लिए ऑइन्ट्मन्ट के रूप में प्रयोग किया जाता है। इस बीज की छाल को गरम कर के इससे आप सिकाई भी कर सकते हैं।

  1. फंगल ग्रोथ से बचाता है

चीकू के पौधे का दूधिया रस त्वचा पर गाँठ और फंगगल को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।